मजबूर नहीं करेंगे तुझे वादे निभानें के लिए,
बस एक बार आ जा, अपनी यादें वापस ले जाने के लिए।

हम तस्लीम करते हैं हमें फुर्सत नहीं मिलती,
मगर जब याद करते हैं ज़माना भूल जाते हैं।

तरीका मेरे क़त्ल का तुम एक ये भी इजाद करो,
मर जाऊँ मैं हिचकियों से मुझे इतना याद करो।

याद करेंगे तो दिन से रात हो जायेगी,
आईने को देखिये हमसे बात हो जायेगी,
शिकवा न करिए हमसे मिलने का,
आँखे बंद कीजिये मुलाकात हो जायेगी।

जब रात को आपकी याद आती है,
सितारों में आपकी तस्वीर नज़र आती है,
खोजती है निगाहें उस चेहरे को,
याद में जिसकी सुबह हो जाती है।…

किसने कह दिया आपकी याद नहीं आती,
बिना याद किये कोई रात नहीं जाती,
वक्त बदल जाता है, आदत नहीं जाती,
आप खास हो ये बात कही नहीं जाती।

आपकी धड़कन से ही है रिश्ता हमारा,
आपकी साँसों से ही है नाता हमारा,
भूल कर भी कभी भूल न जाना हमें,
आपकी यादों के सहारे हैं जीना हमारा।

इतना न याद आओ कि खुद को तुम समझ बैठूं,
मुझे अहसास रहने दो मेरी अपनी भी हस्ती है।

ऐसे ही और शायरी पढ़ने के लिए नीचे दबाये

यहाँ दबाएँ