मोहब्बत नजर बांध देती है।
वरना…और भी थे दिल लगाने के काबिल।

कागजों पे लिख कर जाया कर दूं, मैं वो शख्स नहीं।
वो शायर हूं, जिसे दिलों पे लिखने का हुनर आता है।

तेरी मोहब्बत से भर रखी है, मैंने अपने दिल की तिजोरी।
कोई कोहिनूर भी ला के दे तो भी, मैं सौदा ना करूं।

हटाओ हाथ आंखों से, ये तुम हो जानता हूं, मैं। तुम्हें खुशबू नहीं, आहट से भी पहचानता हूं, मैं।

बहुत भीड़ है, इस मोहब्बत के शहर में। एक बार जो बिछड़ा, वो दोबारा नहीं मिलता।

लोग अपनी दुनिया बनाते हैं। लेकिन हमें तो हमारी, दुनिया ने ही उजाड़ दिया।

जमीर बेचकर अमीर बन जाना।
इससे अच्छा है, फकीर बन जाना।

आखरी बार बात हो जाती तो अच्छा होता। मन में जो सवाल थे? उनके जवाब मिल जाते।

आंसू तब नहीं आते… जब आप किसी को खो देते हैं। आंसू तब आते हैं, जब खुद को खोकर भी किसी को पा नहीं सकते।

ऐसे ही और शायरी पढ़ने के लिए नीचे दबाये

यहाँ दबाएँ