नहीं फुर्सत हमें, कुछ और 😬 करने की… तेरी यादें तेरी बातें, बहुत व्यस्त 😎 रखती हैं।

ना थके🚶🏾‍♂हैं कभी पैर, ना कभी हिम्मत हारी है, जज्बा है कुछ बनने का 🏃‍♂ज़िंदगी में इसलिये सफर जारी है….

आज वो कुछ रूठे 😔 रूठे से हे, दिल में कुछ बात छुपाए छुपाए से हे, पल भर भी नहीं देखा 🤪 हमारी तरफ, हम ना जाने क्या खता कर बैठे हे।

झूठ लिखूँ 📖 तो,, तुझ को अपना लिखूँ मैं.. सच लिखूँ तो,, खुद ☺ को तेरा लिख दू मैं.!

तुझसे ही सुबह ☀️ तुझसे ही शाम है, मेरी हर धड़कन में तेरा ही नाम है, अब सांसे भी मिलेंगी और आग 🔥 भी लगेगी, मेरा तो अब बस तू ही एक मुकाम है।

आँखों पर तेरी निगाहों 😎 ने…दस्तख़त क्या किए” “हमने साँसों 🤪 की वसीयत… तुम्हारे नाम कर दी”। 

संभल कर किया करो गैरों 🤓 से हमारी बुराई, तुम जा कर जिसे जताते हो…. वो आकर हमें बतातें हैं।

ऐ ! काश मुझे तेरा वो वक्त मिल जाए
जो तूने अभी तक किसी के साथ 💑 नहीं बिताया…

तुझे पाकर कोई ख्वाहिश 🤗 बाकी ना रही… तूँ ही बता अब…, क्या कोई चाहत 🥰 होती है जन्नत पाने के बाद।

ऐसे ही और शायरी पढ़ने के लिए नीचे दबाये

यहाँ दबाएँ