झुकना सिर्फ उसी के आगे जिसके दिल में आपको झुकता देखने की आदत न हो

मुझसे नफरत कर बेशक कर पर उतनी ही कर जिनती तूने मुझसे मोहब्बत की थी

खुश रहना हो तो अपनी ज़िन्दगी में एक बात शुमार करलो माँ मिले कोई अपने जैसा तो खुद से पियार कार्लो

ज़िन्दगी में कभी किसी को बेकार मत समझना कियो की बंद घडी भी दिन में दो बार सही समय बताती है

तुम बूझ कर चल तो दिये मेरी यादों के चिराग किया करोगे अगर रिश्ते में कहीं रात हो गयी

तेरे बाद हमने दिल का दरवाज़ा खोला ही नहीं वरना बहुत से चाँद आए इस घर को सजाने के लिए

न कर मोहबात तेरे बस की बात नहीं जो दिल से मोहब्बत करते है वो दिल तेरे पास नहीं

हमारी शायरी पर तो लोग वह वह करते है तो सोचों वो कैसा होगा जिसके खातिर हम श्स्यारी करते है

Hamaari Shaayari Par To Log Vah Vah Karate Hai To Sochon Vo Kaisa Hoga Jisake Khaatir Ham Shsyaaree Karate Hai

ऐसे ही और शायरी पढ़ने के लिए नीचे दबाये

यहाँ दबाएँ

और स्टोरी देखने के लिए निचे दबाये

शायरी एप्प डाउनलोड करने के लिए नीचे दबाये