तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी,
बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी।

हमसे न करिये बातें यूँ बेरुखी से सनम,
होने लगे हो कुछ-कुछ बेवफा से तुम।

हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला,हमको जो भी मिला बेवफा यार मिला,अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी,हर कोई मकसद का तलबगार मिला।

तूने ही लगा दिया इलज़ाम-ए-बेवफाई,
अदालत भी तेरी थी गवाह भी तू ही थी।

सीख कर गया है वो मोहब्बत मुझसे,
जिस से भी करेगा बेमिसाल करेगा।

हर भूल तेरी माफ़ कीतेरी हर खता को भुला दिया,
गम है कि मेरे प्यार कातूने बेवफाई सिला दिया।

आप बेवफा होंगे सोचा ही नहीं था,आप भी कभी खफा होंगे सोचा नहीं था,जो गीत लिखे थे कभी प्यार में तेरे,वही गीत रुसवा होंगे सोचा ही नहीं था।

पहले इश्क फिर धोखा फिर बेवफ़ाई,
बड़ी तरकीब से एक शख्स ने तबाह किया।

मेरी वफा के बदले बेवफाई न दिया कर,मेरी उम्मीद ठुकरा के इन्कार न किया कर,तेरी मोहब्बत में हम सब कुछ गँवा बैठे,जान भी चली जायेगी इम्तिहान न लिया कर।

आखिर किस कदर खत्म 😶कर सकते है..
उनसे रिश्ता, जिनको सिर्फ 😍महसूस करने से.. हम दुनिया भूल जाते है।

ऐसे ही और शायरी पढ़ने के लिए नीचे दबाये

यहाँ दबाएँ