खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,
ये सोचकर की कोई अपना होता तो रोने ना देता!!

जरा सी गलतफहमी परन छोड़ो किसी अपने का दामनक्योंकि जिंदगी बीत जाती हैकिसी को अपना बनाने में

आँसू भी आते हैं औ रदर्द भी छुपाना पड़ता है
ये जिंदगी है साहब यहां जबरदस्ती भी मुस्कुराना पड़ता है।

अदाएं कातिल होती हैं आँखें नशीली होती हैं,
मोहब्बत में अक्सर होंठ सूखे होते हैंऔर आँखे गीली होती हैं।

जहर की भी जरुरत नहीं पड़ी हमें मारने के लिए,
तुम्हारे ऐसे बर्ताव ने ही हमें मार डाला।

दुआ करना दम भी उसी दिन निकले,
जिस दिन तेरे दिल से हम निकले💔

आधा ख्वाब, आधा इश्क़, आधीसी है बंदगी,
मेरे हो…पर मेरे नही.. कैसी है येजिंदगी…

ऐसे ही और शायरी पढ़ने के लिए नीचे दबाये